स्वागतम
अखिल भारतीय मध्यदेशीय वैश्य सभा
कुल गुरु सन्त बाबा गणिनाथ जी सन्त पलटू दास जी बाबा सरजूदास जी

ध्वजाभिवादन

सभी लोगों का प्यारा हमारा आज अभ्युदय
मधुर शुचि दिव्य सारा है आज अभ्युदय
हमारे देश का प्यारा
हमारा जाति का तारा
सभी लोगो से न्यारा है हमारा आज अभ्युदय
ये देता है ज्ञान की शिछा
ये करता स्वास्थ्य की रछा
बहाता प्रेम की गंगा हमारा आज अभ्युदय
अविधा फूट को हरता है
हमारा संगठन करता
है भरता ज्योति जीवन का हमारा आज अभ्युदय
है बच्चो को भी प्यार यह
है वर्धो का दुलारा यह
है जीवन जन युवको का आज अभ्युदय
हमारे - वर डाली
युवको वर व्रन्दा डाली
खिला मन बालकों का यह पुष्प हमारा आज अभ्युदय
निशा का अचल ध्रुव तारा
उषा का हास्य म्रदु प्यारा
ये प्राची का है अरुड़ोदय हमारा आज अभ्युदय
रजत समशुभ्र है भक्ति
केसरिया रंग युवा शक्ति
अरुण अनुराग की धारा हमारा आज अभ्युदय